विचार विमर्श, संत वाणी, सनातन संस्कृति, Guru Vani

धर्मो रक्षति रक्षितः – पूज्य बापूजी की अमृतवाणी

 

This slideshow requires JavaScript.

जो धर्म का हनन करता है, धर्म उसका ही नाश कर देता है ! और जो धर्म की रक्षा करता है, धर्म उसकी रक्षा करता है ! पर धर्म है क्या ?

आइये सुनते हैं बापूजी धर्म के बारे में क्या बताते हैं :

धर्म वही है जो आपको ऊपर उठने की प्रेरणा दे, और जहाँ आज हैं, वहां से नीचे न गिरें बल्कि ऊपर उठते जायें ! इसी व्यवस्था का नाम धर्म है !

 

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s