Mangalmay Channel

Akhir kyu – Asaram Bapu

anand sant fakeer 5

 

मेडिकल रिपोर्ट के आधार पर हम १०० प्रतिशत, निश्चित रूप से कह सकते हैं कि न रेप है और न ही रेप की कोशिश की गयी है और यौन उत्पीड़न का भी केस नहीं है क्योंकि किसी भी नाबालिग की त्वचा बहुत ही मुलायम होती है और अगर कोई उत्पीड़न होता तो उसके निशान रहते ।

आप समझते हो ! १२-१३ साल पहले कोई तथाकथित घटना होती है । कोई महिला आती है और वह कहती है तो आप उस पर विश्वास करोगे या फिर उस पुरुष पर जिसने अपना पूरा जीवन विश्व-कल्याण के लिए लगा दिया ? वे बोल रहे हैं २००२ में घटना घटी । वे सब स्पष्ट रूप से जानते हैं कि उनका केस न्यायालय में नहीं टिक पायेगा । ११ वर्ष तक किसी भी महिला का चुप रहना असम्भव है । अब २०१३ चल रहा है, ११ साल के बाद वे आते हैं और झूठा मामला दर्ज कराते हैं !

पुलिस भी जानती है कि यह केस न्यायालय में जाने लायक नहीं है । शायद पुलिस इस केस में चार्जशीट भी दायर नहीं करेगी ।

तथाकथित हिन्दू गुरु, जिन्होंने आशाराम बापू और अन्य हिन्दू गुरुओं को दुर्वचन कहे, उनसे आपको प्रश्न पूछना चाहिए, उनको पाठ सिखाना चाहिए । किसी भी हिन्दू संत को यह अधिकार नहीं है कि वे किसी दूसरे हिन्दू संत की निंदा  करें । उनमें से बहुत लोग जो आशारामजी बापू पर टीका-टिप्पणी कर रहे हैं, वे संत ही नहीं हैं । उनकी हिम्मत कैसे हुई यह कहने की कि ‘आशारामजी बापू संत नहीं हैं !’ अब मैं कहता हूँ कि जो भी बापू की निंदा  कर रहे हैं, वे संत नहीं हैं ।

सभी भक्त और शिष्य यह स्पष्ट रूप से निर्णय कर लें कि ‘यदि आप दूसरे हिन्दू गुरुओं की निंदा  करेंगे तो हम आपका बहिष्कार करेंगे ।’ अगर आप इस समय आशारामजी बापू का समर्थन नहीं करना चाहते तो कम-से-कम चुप रहो । मैं आपको और पूरे देश को स्पष्ट रूप से कह रहा हूँ – जो बापूजी को गलत बता रहे हैं, मैं उन गुरुओं को जिन्हें लोग ‘गुरु’ कहते हैं, ‘गुरुजी’ कहते हैं, इस समय चुनौती देता हूँ… मैं उनसे एक सीधा प्रश्न पूछता हूँ कि क्या आपने भक्तों की प्रेरणा को जीवित रखने के लिए आशारामजी बापू का उपयोग नहीं किया है ? क्या आपने उनके कठिन परिश्रम से लाभ नहीं लिया है ? तो फिर आपको उनके कठिन परिश्रम के प्रति कृतज्ञता क्यों नहीं है ? ये लोग कम्युनिस्ट और नास्तिक संस्था के नेताओं की तरह बात कर रहे हैं । आप समझो ! आप लोग आस्था पर आधारित संस्था के अधिष्ठाता हो । अगर हमें ईमानदारीपूर्वक विश्वास है कि यह सब झूठ है तो हमें आशारामजी बापू का समर्थन करना चाहिए । अगर विश्वास नहीं है, अगर संदेह है तो कम-से-कम चुप रहें ।

तुम क्यों सब जगह जा-जाकर गलत बोल रहे हो जबकि न्यायालय में अभी तक कुछ भी साबित नहीं हुआ है । तुम देश के न्यायालय पर विश्वास क्यों नहीं रखते ? तुम न्यायालय के निर्णय आने तक इंतजार क्यों नहीं करते ? तुम वक्तव्य देने के लिए उतावले क्यों हो रहे हो ? अगर आपको लगता भी है कि कुछ हुआ है तो जब तक न्यायालय निर्णय न ले ले तब तक चुप रहिये ।

भोलानंद ने सारी सच्चाई मीडिया के सामने  रखी है पर पुलिस उस बात को जानबुजकर नजरअंदाज़ कर रही है |

आप भी जानिए क्यों और कैसे आशाराम बापू जी को फसाया गया |

 

 

 

Advertisements
Standard

One thought on “Akhir kyu – Asaram Bapu

  1. Pingback: તેમની હિમ્મત કેવી રીતે થઇ આ કહેવાની કે બાપુજી સંત નથી. - સ્વામી નિત્યાનંદજી

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s