Satsang

मंगलवारी चतुर्थी – १५ जुलाई २०१४

Mangalvari Chaturthi ( 18th Sep 11:59 pm to 19th Sunrise)- मंगलवारी चतुर्थी पूजन विधि और महिमा – See more at: http://www.ashram.org/MultiMedia/Videos/VideoPlayer/TabId/404/VideoId/5309/Mangalvari-Chaturthi–18th-Sep-1159-Pm-To-19th-Sunrise——.aspx#sthash.pFtNEQnH.dpuf
मंगलवारी चतुर्थी,Mangalwari Chaturthi,jap,meditation,ashram,asharamji bapu,asaramji,

मंगलवारी चतुर्थी – दिनांक १५/७/२०१४ को सूर्योदय से रात्रि २:३० तक यह महा योग हैं।

 

मंगलवारी चतुर्थी महिमा

जैसे सूर्य ग्रहण को दस लाख गुना फल होता है वैसे ही मंगलवारी चतुर्थी को होता है | बहुत मुश्किल से ऐसा योग आता है | इसको अंगारक चतुर्थी भी कहते हैं | मत्स्य पुराण , नारद पुराण  आदि शास्त्र में इसकी भरी महिमा है | इस दिन छुट्टी ले लो तो और अच्छा है| गौ झरण से छोटा सा कमरा साफ़ करके गौ चंदन अगरबत्ती जलाकर इस दिन जप , मौन और ध्यान में रहो | आप संसारी मजदूरी करके जो जो नहीं पा रहे हैं वह सब आपके लिए आसान हो जायेगा भगवद प्राप्ति आसान  होजाएगी| इस दिन अगर कोई जप , दान , ध्यान , संयम करता है तो वह दस लाख गुना प्रभावशाली होता है , ऐसा वेद व्यासजी ने कहा है |वेद व्यासजी का वचन सारगर्भित माना
जाता है |
सूर्यग्रहण में किया हुआ जप तप दस लाख गुना माना जाता है | सोमवती अमावस्या , रविवार की सप्तमी , मंगलवार की चतुर्थी ……. और मंगलवार की चतुर्थी जब आती है इसकी एक विशेषता होती है , अंगारक चतुर्थी है यह | यह अंगारक चतुर्थी कभी कभार आती है|
तो मंगल की चतुर्थी में मैं तो चाहूँगा आप सारे काम धंधे से फारक होकर (छुट्टी लेकर) मंगल की चतुर्थी को अपना एक कमरा (फिनाइल की अपेक्षा) गौ झरण से साफ सुथरा करके,  यह न हो तो गंगा जल का प्रयोग करें| और गाय के गोबर से या गौ-चन्दन अगरबत्ती से कमरे को सात्विक बना दीजिये और जप करें| कुटुंब के लोग करें या एक आदमी करे| जप ध्यान करोगे तो वह जप, ध्यान , मौन शास्त्र-अध्ययन …. आरोग्य का जप करोगे तो आरोग्य जप सिद्धि हो जाएगी| एका-एक कोई मुसीबत को वापस भेजने वाला मन्त्र का जप करोगे तो एका-एक आई मुसीबत वापस भी भेज सकते हैं या जिसने भेजी है उसको सौगात भी भेज सकते हैं, जय राम जी की|
मंगल की चतुर्थी को जप करना, इश्वर की और पड़ना, योग वशिष्ठ का वैराग्य प्रकरण पढ़ना, बस इश्वर प्राप्ति के लिए रोना-पुकारना| रोना नहीं आए तो झूठ मूठ  का रोना कि  — प्रभु तुम्हारी प्रीती दे दो, दंभ से बचाओ, इर्ष्या से बचाओ, अभिमान से बचाओ, असत्य से बचाओ, जीभ की लोलुपता से बचाओ, व्यर्थ की बकवास से बचाओ, व्यर्थ के झाँका-झाँकी  से बचाओ, व्यर्थ की हस्त चांचल्य (नाक खोदना , तिनका तोड़ना आदि, यह नीच मन की पहचान है ) से बचाओ , बिन जरुरी बोलते रहेंगे -नहीं इस व्यर्थ की शक्तियों को सार्थक में लगाने का संकल्प करके मंगलवार के चतुर्थी के दिन को महा मंगलमय बना लेना|

मंगलवारी चतुर्थी,Mangalwari Chaturthi,jap,meditation,ashram,asharamji bapu,asaramji,

Mangalwari Chaturthi – 15Jul2014

Mangalwari Chaturthi Mahima

Jaise surya grahan ko dus lakh guna fal hota hain vaise hi mangalwari chaturthi ko hota hain. Bahut mushkil se aisa yog aata hain. Isko Angarak Chaturthi bhi kehte hain. Matsya Puran , Narad Puran aadi shastr mei iski bhari mahima hain. Is din chhutti lelo toh aur achcha hain. Go jharan se chhota sa kamra saaf-suf karke gau chandan agarbati jalakar yeh din Jap, Maun aur Dhyan mei raho.

Aap sansaari majduri karke jo-jo nahi paa rahein hain vah sab aapke liye aasan ho jayega,bhagvad prapti bhi aasan ho jayegi.

Is din agar koi jap,daan,dhyan,sanyam karta hain toh vah dus laak guna prabhavshali hota hian, aisa Ved Vyasji ne kaha hain. Ved Vyasji ka vachan saar-garbhit maana jaata hain. Chandra grahan mei kiya hua jap,tap,daan,puny laakh guna maana jaata hain . Surya grahan mei kiya hua jap-tap dus laakh guna maana jaata hain. Somvati Amavasya,Ravivar ki Saptami , Mangalvar ki Chaturthi . . . . Aur yeh Mangalvar ki Chaturthi jab bhi aati hain iski ek visheshta hoti hain , Angaarak chaturthi hain yeh. Yeh angaarak chaturthi kabhi kabhaar aati hain.

Toh Mangal ki Chaturthi, Mei toh chaahunga aap saare kaam-dhande se faarak hoke Mangal ke chaturthi ko apna ek kamra (phenyl ke apeksha ) gau-jharan se saaf sutra karke ,yeh na hon toh ganga jal ka istemal karein. Aur gaay ke gobar se ya Gau-Chandan agarbatti se kamre ko satvic bana dijiye aur jap kare. Kutumb ke log karein ya ek aadmi karein. Jap-Dhyan karoge toh vah Jap, Dhyan, Maun, Shastra adhyayan . . . .  Aarogya ka jap karoge toh aarogya jap siddhi ho jayegi. Eka ek aayi musibat ko vaapas bhejne vaali mantra ka jap karoge toh eka-ek aayi musibat vaapas bhi bhej sakte hain ya jisne bheji hain usko saugat bhi bhej sakte hain.  Jai Ramji Ki

Mangal ki Chaturthi ko jap karna,Ishwar ki aur padna , Yog Vashisth ka vairagya prakaran padna bas ishvar prapti ke liye rona-pukarna . Rona nahi aaye toh jhuth-muth ka rona ki prabhu tumhari priti de do , dambh se  bachao , irshaa se bachao, abhiman se bachao, asatya se bachao, jib ki lolupta se bachao, Vyarth ki bakvas se bachao, Vyarth ki jhaaka-jhaaki se bachao, vyarth ki hast chanchalya (naak khodna,tinka todna ,aadi) se bachao (yeh nich man ki pehchaan hain), bin jaruri bolte rahenge nahi is vyarth ki shaktiyon ko sarthak mei lagane ka sankalp karke Mangalwar ke Chaturthi ke din ko Maha Mangalmay bana lena.

Spiritual Importance of mangalwari (Angarika) chaturthi – Pujya Sant Shri Asharam ji bapu discourses

Mangalvari Chaturthi ( 18th Sep 11:59 pm to 19th Sunrise)- मंगलवारी चतुर्थी पूजन विधि और महिमा – See more at: http://www.ashram.org/MultiMedia/Videos/VideoPlayer/TabId/404/VideoId/5309/Mangalvari-Chaturthi–18th-Sep-1159-Pm-To-19th-Sunrise——.aspx#sthash.pFtNEQnH.dpuf
Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s