Sant, tatvik

अलमस्त, अचाह, महाशहंशाह

bapu2

“”करोड़ों-करोड़ों भक्तों की आस्था को कोई हिला न सका !
मजाल है किसीकी हिमालय पर्वत को कोई गिरा सका !!
लाखों चले आंधियाँ, हजारों आये तूफ़ान ! लेकिन !
बापूजी के बच्चों को सुपथ से कोई डिगा न सका !!””

सुप्रचार की आंधी से नक्शा बदल देंगे ।
भारत के लोकतंत्र का तख्ता बदल देंगे ।।
पासा फेका है आपने । शुरुवात की है आपने ।
बापू के बच्चे लोकतंत्र क्या पूरी दुनिया बदल देंगे ।।

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s