व्यसन मुक्ति अभियान

नशा मुक्ति दिवस – 2 अक्टूबर 2014

6

WWW.ASARAMJIBAPU.ORG

व्यसनमुक्ति अभियान मार्गदर्शिका

1

नशे का विनाशकारी जाल

नशा एक खतरनाक दुर्व्यसन है । यह दुर्व्यसन जब किसी के जीवन में आ जाता है , तो उसे खोखला कर देता है और उसे विनाश की कगार पर

लाकर खड़ा कर देता है । व्यसन व्यक्ति की प्रगति के सभी मार्गों को अवरुद्ध कर देता है । प्रारंभ में मनुष्य उसे आनंद की वस्तु समझकर

अपनाता है , उसे मनोरंजन का साधन मानता है तथा उसे उच्चस्तर एवं गौरव का प्रतीक मानकर गले लगाता है परन्तु बाद में सिवाय पश्चाताप के

उसके पास कुछ भी शेष नहीं रहता ।

ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के कैन्सर रिसर्च संस्था ने यह सिद्ध किया है की तम्बाकू के सेवन से मनुष्य अपने जीवन के 22 वर्ष नष्ट कर देता है

अर्थात वह 22 वर्ष पहले ही मर जाता है । तम्बाकू खाने से नष्ट होनेवाले यही 22 वर्ष यदि सत्संग तथा सत्कर्मों में लगायें जाय तो मानव में से

महामानव का प्रागट्य हो सकता है ।

व्यसन मात्र शरीर को ही हानि पहुँचाते हैं , ऐसी बात नहीं है । इससे भी बढ़कर तो ये सर्वोत्तम एवं दुर्लभ मनुष्य जन्म को व्यर्थ में ही नष्ट कर
डालते है !

2 4 5

व्यसनमुक्ति किस प्रकार ?

दुर्बल मनवाला व्यक्ति विकारों-दुर्व्यसनों में फँसता जाता है । ऐसी परिस्थिति में व्यसनों से मुक्ति इस प्रकार हो सकती है |

यदि अपने पास संकल्पबल न हो तो जिनके पास अपूर्व संकल्पबल हो उनका सहारा लेना चाहिए । संत-महापुरुष , आत्मज्ञानी महात्मा उनके

समक्ष प्रार्थना करने से , व्रत लेने से उनके संकल्प और आशीर्वाद मदद रूप होते है ।

शराब छोड़ने का प्रयोग :- प्रातःकाल उठकर दोनों हाथों को देखों । पांच बार मन –ही –मन कहो : “आज मै अपने मुँह में इस जहर को नहीं

डालूँगा …. दारू नहीं पिऊँगा …. नहीं पिऊँगा ।”

प्रातः स्नानादि के बाद कटोरी में थोडा जल लो । ललाट पर उस पानी का तिलक करो । दृढ़ संकल्प करो की अब मैं अपना भाग्य बदलूँगा । ‘हरी

ॐ…. हरी ॐ….हरी ॐ’ लगभग सवा सौबार इस मंत्र का जप करो । पानी में निहारो और तीन घूँट वह पानी पी जाओ । रात्रि को सोते समय भी

ऐसा करो ।चमत्कारिक ईश्वरीय सहायता अवश्य मिलेगी ।

बीडी , सिगरेट , गुटखा – पानमसाला छोड़ने का प्रयोग :-  सौंफ 100 ग्राम , अजवायन 100 ग्राम , सेंधा नमक 30 ग्राम , दो बड़े निम्बू का रस

मिश्रीत करके तवे पर सेंक लो । जब बीडी , सिगरेट , गुटखा अथवा पानमसाले की तलब लगे तब इसका मुखवास लो । इससे रक्त की शुद्धि

होगी तथा तम्बाकू के व्यसन से मुक्ति मिलेगी ।

आश्रम द्वारा प्रकाशित ‘ व्यसन का शौक ….कुत्ते की मौत ’ पोस्टर अथवा कैलेण्डर को अपने कार्यालय एवं शयनकक्ष में टाँगे । इससे भी

व्यसन छोड़ने में आपको मदद मिलेगी । यह मानव जीवन बड़ा दुर्लभ है । ईश्वर जीव पर कृपा करके उसे जन्म – मरण के दुःख से मुक्त होने के

लिए मनुष्य शरीर देता है ।

sankalp-patra

7

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s