Sant Charitra

भक्त शिरोमणी संत नामदेव

_Namdeva1

संत नामदेव जी का जन्म सन १२६९ के लगभग महाराष्ट्र में कृष्णा नदी पर स्थित नरस वामनी गांव, जिल्हा सतारा में हुआ| आप जी के माता जी का नाम गोनाबाई और पिता जी का नाम दमा शेट जी था | आप जात से छिपा (कपडों पर छपाई करने वाले) थे |

नामदेव जी का परिवार उनके जन्म के बाद पंढरपुर में आकर रहने लगा था | माता पिता दोनों विट्ठल के भगत थे | नामदेव जी के अंदर बचपन से ही विट्ठल भगवान के प्रति बहुत प्रेम था | वह सात साल की उम्र में ही विट्ठल के भजन गाने लगे थे |

माता हर दिन विट्ठल भगवान को दूध का भोग लगाया करती थी | एक दिन माता अपने काम में काफी व्यस्त थी तो उन्होने नामदेव जी को विट्ठल भगवान को दूध का भोग लगाने को भेजा | नामदेव जी ने प्रेम से जैसे ही विट्ठल भगवान को दूध का कटोरा अर्पण किया वैसे ही भगवान ने मूर्ति में से प्रगट हो कर पूरा दूध पि लिया | नामदेव जी ने घर जाकर खुशी से सारा वृतान्त कह सुनाया | माता पिता दोनों आश्चर्य करने लगे उन्हें नामदेव की बातों पर विश्वास नहीं हुआ | वह नामदेव को साथ ले गए और भगवान को फिर से भोग लगाने को कहा | नामदेव के दूध अर्पण करने पर विट्ठल भगवान मूर्ति से प्रकट हो कर दूध पिने लगे | यह देखकर माता पिता आश्चर्य चकित रह गए |
उनका सारा दिन विट्ठल भगवान के दर्शन, भजन कीर्तन में ही गुजर जाता था |
आपजी की शादी राधाबाई से हुई | सांसारिक कार्यों में उनका जरा भी मन नहीं लगता था | परिवार की तरफ नामदेव जी बिलकुल भी ध्यान नहीं दे पाते थे |

sant-namdev1

संत ज्ञानेश्वर जी से भेंट
एक समय महान संत ज्ञानेश्वर जी अपने भाइयों निवृति, सोपान तथा बहन मुक्ताबाई के साथ पंढरपुर में आए तो चंद्रभागा नदी के किनारे नामदेव जी को कीर्तन करते देख बहुत प्रभावित हुए | दोनों संत हमेशा एकसाथ रहने लगे | अब तक नामदेव जी परमेश्वर के सगुण स्वरुप विट्ठल के उपासक थे और विट्ठल के दर्शन के बिना नहीं जीते थे, उनके लिए परमेश्वर सिर्फ विट्ठल भगवान की मूर्ति ही थी | ज्ञानेश्वर जी निर्गुण के उपासक थे | नामदेव जी के लिए पंढरपुर को छोड़ कर जाना मृत्यु के सामान प्रतीत होता था | लेकिन ज्ञानेश्वर जी के विशेष आग्रह पर उनके साथ संतों की मण्डली में चल पडे | अब तक नामदेव जी ने कोई गुरु नहीं किया था| आप केवल विट्ठल को ही अपना गुरु मानते थे | रास्ते में मण्डली एक जगह रुकी तो सतसंग के पश्चात मण्डली संत गोरा जी (जो की एक कुम्हार थे) को सब के मटके (सिर) की जाँच करके पक्का या कच्चा बताने के लिए कहने लगे | गोरा जी ने एक लकड़ी से सब के सिर बजा कर देखे (जैसे कुम्हार मटकों को बजा कर देखता है) कोई नहीं रोया जब नामदेव जी के सिर को बजा कर देखा तो नामदेव जी जोर जोर से रोने लगे| यह देखकर सभी संत जोर जोर से हँसने लगे | इससे नामदेव जी बड़े आहत हुए और वहाँ से सीधे विट्ठल के पैरों में गिरकर रोने लगे | भगवान ने आप को गुरु करने के लिए कहा, तो नामदेव जी कहने लगे जब मुझे आपके दर्शन ही हो गए तो मुझे गुरु की क्या जरुरत है| भगवान ने कहा की नामदेव जब तक तू गुरु नहीं करता तबतक तू मेरे वास्तविक स्वरुप को नहीं पहचान सकता | नामदेव जी कहने लगे प्रभु मैं आप को कहीं भी कभी भी पहचान सकता हूं | भगवान ने नामदेव से कहा की तू आज मुझे पहचान लेना मैं तेरे आगे से निकल कर जाऊंगा | भगवान एक पठान घुडसवार के रूप में नामदेव के आगे से गुजरे तो नामदेव भगवान को पहचान न सके | इसपर नामदेव जी गुरु करने को मान गए, भगवान ने उन्हें विसोबा खेचर को गुरु करने को कहा | विसोबा खेचर ज्ञानदेव जी के शिष्य थे | नामदेव जी ने विसोबा खेचर को गुरु किया और सर्व व्यापक परमेश्वर का ज्ञान पाया

एक समय आप औढा नागनाथ (शिव ज्योतिर्लिंग) में मंदिर के दरवाजे पर भजन कर रहे थे तो पंडित ने उन्हें मंदिर के पीछे जा कर भजन करने को कहा | आप पीछे जा कर भजन करने लगे तो मंदिर का मुख घूम कर पीछे की तरफ हो गया | इसी तरह भगवान ने एक बार आप जी की झोंपड़ी को ठीक किया|

एक समय आप भजन कर रहे थे तो एक कुत्ता आकर रोटी उठाकर ले भगा| नामदेव जी उस कुत्ते के पीछे घी का कटोरा लिए भागे और कहने लगे भगवान रुखी मत खाओ साथ में घी भी लेते जाओ | नामदेव का भाव देखकर भगवान को कुत्ते में से प्रगट होना पडा

एक समय बीदर के एक ब्राह्मण ने नामदेव जी को कीर्तन के लिए बुलाया | सुलतान ने नामदेव और बाकी संगत को पकड़ कर कैद कर दिया| फिर नामदेव को इस्लाम स्वीकार करने को कहा या फिर मरी हुई गाय जीवित करने को कहा | नामदेव जी जब ना माने तो आप को मद मस्त हाथी के आगे फेंका गया तो हाथी शांत हो गया | नामदेव जी की माता ने उन्हें जान बचाने के लिए इस्लाम स्वीकार करने को कहा लेकिन नामदेव जी ने मरी हुई गाय जीवित करके सुलतान को चकित कर दिया| सुलतान ने नामदेव का आदर सत्कार किया|
भारत भ्रमण
नामदेव जी संत ज्ञानेश्वर और अन्य संतों के साथ भारत भ्रमण को गए | मण्डली ने सम्पूर्ण भारत के तीर्थों की यात्रा की | मार्ग में अनेकों चमत्कार भी किये |
भ्रमण करते करते जब मण्डली मारवाड के रेगिस्तान में पहुंची तो सभी को बहुत प्यास लगी| फिर एक कुआ मिला पर उस का पानी बहुत गहरा था और पानी निकालने का कोई साधन भी नहीं था | ज्ञानेश्वर जी अपनी लघिमा सिद्धि के द्वारा पक्षी बनकर पानी पीकर आ गए | नामदेव जी ने वहीँ पर कीर्तन आरंभ किया और रुक्मिणी जी को पुकारने लगे | कुआ पानी से भर कर बहने लगा | सभी ने अपनी प्यास बुझाई | यह कुआ आज भी बीकानेर से १० मील दूर कलादजी में मौजूद है |
भारत भ्रमण के बाद नामदेव जी ने भंडारा दिया जिस में स्वयं विट्ठल भगवान और रुक्मिणी जी पधारे |
जब से नामदेव और संत ज्ञानेश्वर जी मिले कभी भी अलग नहीं हुए | भारत भ्रमण के बाद ज्ञानदेव जी ने २० या २१ वर्ष की आयु में सजीव समाधी (खुद की इच्छा से शरीर त्यागना) लेने का निश्चय किया और पुणे के नजदीक आलंदी में संजीव समाधी ली | नामदेव जी उस समय उन के साथ ही थे | ज्ञानेश्वर जी की समाधि के एक वर्ष के भीतर उनके भाई तथा गुरु निवृति , छोटे भाई सोपान और बहन मुक्ताबाई इस संसार को छोड़ गए | नामदेव जी ने इन चारों संतों के अंतिम समय का सुन्दर वर्णन अपनी रचनाओं में किया है |
इसके बाद नामदेव जी पंजाब में गुरदासपुर जिले के घुमन गांव में रहने लगे | यहाँ पर वह २० वर्ष तक रहे | घुमन में उनकी याद में समाधी मंदिर बना हुआ है | आप जी की कुछ रचनाओं को श्री गुरु ग्रन्थ साहिब में शामिल किया गया है |

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s