Tithi

Bhishma-Varah-Til Dwadashi & Dintraya Vrat

३१ जनवरी :- वराह-भीष्म-तिल द्वादशी(Bhishma-Varah-Til Dwadashi) तिल द्वादशी को जो स्नान, प्रसाद, हवन, दान व भोजन में तिल का और दीपक में तिल के तेल का उपयोग करता है, उसकी सम्पूर्ण व्याधि दूर होती है । (ब्रह्म पुराण)

Dintraya Vrat

दिनत्रय व्रत

१ से ३ फरवरी :- दिनत्रय व्रत (Dintraya Vrat) पूरे माघ मास स्नान करने का सामथ्र्य व अनुकूलता न होने पर त्रयोदशी से पूर्णिमा तक स्नान, दान, व्रतादि पुण्यकर्म करने से सम्पूर्ण माघस्नान का फल मिलता है ।

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s