संत वाणी

सफलता के लिए पुरुषार्थ के साथ क्या है, जरुरी ?

श्री आशारामायण,गुरुसेवा,प्रभु जी,गुरुदेव,मेरे राम,हरिओम,आशाराम जी,#HappyParentsWorshipDay,आसाराम बापू,नारायण,yss,bsk,mum,dpp,syvmr,gurukul,hariomgroup.org,ashram.org,google+,false allegation

 लोग बोलते हैं कि ध्यान आत्मचिन्तन के लिए हमें फुरसत नहीं मिलती | लेकिन भले मनुष्य ! जब नींद आती है तब सब महत्वपूर्ण काम भी छोड़कर सोजाना पड़ता है कि नहीं ? जैसे नींद को महत्व देते हो वैसे ही चौबीस घन्टों में से कुछ समय ध्यान आत्मचिन्तन में भी बिताओ | तभी जीवन सार्थक होगा | अन्यथा कुछभी हाथ नहीं लगेगा |

Advertisements
Standard

3 thoughts on “सफलता के लिए पुरुषार्थ के साथ क्या है, जरुरी ?

  1. Pingback: सफलता के लिए पुरुषार्थ के साथ क्या है, जरुरी ? | shyamvirsingh's Blog

  2. पूज्य बापूजी ने शुरु की माता पिता व संतानों में सद्भाव जगाने का त्योहार मातृ-पितृ पूजन दिवस

    Like

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s