पर्व विशेष, Mangalmay Channel

वैशाख मास के अंतिम ३ दिन दिलायें महापुण्य पुंज (1 May to 4 May 2015)

वैशाख मास के आखरी तीन दिन

Vaishakh Mas ke aakhri teen din

‘स्कंद पुराण’ के अनुसार वैशाख मास के शुक्ल पक्ष में अंतिम ३ दिन, त्रयोदशी से लेकर पूर्णिमा तक की तिथियाँ बड़ी ही पवित्र और शुभकारक हैं |

इनका नाम ‘ पुष्करिणी ’ है, ये सब पापों का क्षय करनेवाली हैं |

जो सम्पूर्ण वैशाख मास में ब्राम्हमुहूर्त में पुण्यस्नान, व्रत, नियम आदि करने में असमर्थ हो, वाह यदि इन ३ तिथियों में भी उसे करे तो वैशाख मास का पूरा फल पा लेता है |

वैशाख मास में लौकिक कामनाओं का नियमन करने पर मनुष्य निश्चय ही भगवान विष्णु का सायुज्य प्राप्त कर लेता है |

जो वैशाख मास में अंतिम ३ दिन ‘गीता’ का पाठ करता है, उसे प्रतिदिन अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है |

जो इन तीनों दिन ‘श्रीविष्णुसहस्रनाम’ का पाठ करता है, उसके पुण्यफल का वर्णन करने में तो इस भूलोक व स्वर्गलोक में कौन समर्थ हैं | अर्थात् वाह महापुण्यवान हो जाता है |

जो वैशाख के अंतिम ३ दिनों में ‘भागवत’ शास्त्र का श्रवण करता है, वाह जल में कमल के पत्तों की भांति कभी पापों में लिप्त नहीं होता |

इन अंतिम ३ दिनों में शास्त्र-पठन व पुण्यकर्मों से कितने ही मनुष्यों ने देवत्व प्राप्त कर लिया और कितने ही सिद्ध हो गये |

अत: वैशाख के अंतिम दिनों में स्नान, दान, पूजन अवश्य करना चाहिए |


As per Skanda Puranas, the last three days on the waxing cycle of moon i.e. from Trayodashi till full moon are considered very holy and auspicious.

They are designated as “Pushkarini“. They assist in washing away our past sins.

One who is incapable of getting up early at Brahmamuhurta for holy bath and practices… then maintaining that discipline even for these three days will benefit him equivalent to the austerities conducted  for the entire month.

In the Baisaakh month, one gains closeness to Shri Vishnu by virtue of abstaining from worldly desires.

One who recites Bhagwad Gita in the last three days of the Baisaakh month, he gains fruits of performing the Ashwamegh rites.

One who recites VishnuSahashranaam in the last three days of the Baisaakh month, none from this earthly realm or even heavens are capable of extolling the virtues from it. Thus, the person becomes exceptionally holy.

One who listens to Bhaagvat scriptures in the last three days of the Baisaakh month, he gains the ability to live in this world like a lotus leaves in water, never getting embroiled in sins around him.

On these last three days, so many people have attained to Godliness and attained Sidhhis, accomplishments.

So, in these last three days of the Baisaakh month, one must take part in bathing, donation, service and prayers.

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s