Alerts

हर कोई चाहता है, सुधार की भूमिका………

Rajasthan Patrika , jhuthi khabre

सुधर जा, सुधर ने की सीजन है …

सुधरजा राजस्थान पत्रिका वाले

Sudharja Rajasthan Patrika wale

जहाँ पर सारे बुद्धिजीवियों,डाक्टरों एवं वैज्ञानिकों की सारी खोजें पूर्ण हो जाती हैं, और विज्ञान जिस विषय पर आके बां पुकार देता है, वहाँ से अध्यात्म की शुरूआत होती है |

जिन्होंने पंच कर्मेन्द्रिय व ज्ञानेन्द्रियों और 11 वें मन पर विजय पा ली हो अब भला क्या उन महापुरूषों को हम अपनी छोटी मती-गति से तौलेंगे ? वे हमारे आपे से बाहर है |

वे महापुरूष क्या करना चाहते हैं और क्या नही…

भौतिक जगत के नेटवर्क से अध्यात्मिक जगत की तुलना करना कहाँ तक जायज है ?

भौतिक जगत के नेटवर्क में कुछ न कुछ समस्याएं आती ही रहती हैं क्योंकि वह प्रकृति जन्य है |

परंतु आध्यात्म जगत के नेटवर्किंग मैनेजमेंट में ऐसी समस्या नही होती | अगर इसपर कोई सवाल उठाता है तब तो वह मंद-बुद्धि प्राणी है |

सत्य की मांग होनी चाहिए लेकिन समय के दौर में वाद-प्रतिवाद व दोषारोपण करके समस्त कार्यप्रणाली को यदि कोई मोड देने का प्रयास करता है तो एक सवाल खड़ा होता है, प्रक्रिया-अंत का……. परिणाम ? कौन जिम्मेदार होगा ?

मिथ्याजगत की तुच्छ बातें क्या अपने आपमें ठोस है ?

जहाँ पर वेदों ने भी नेती नेती कह कर चुप्पी साध ली हो क्योंकि ब्रह्म मन, बुद्धि व वाणी का विषय नहीं है, जो शब्दों में बयां न किया जा सके उस तत्व में जिन्होंने स्थिति पा ली हो भला,

उस ब्रह्म को उनके मैंनेजमेंट  को क्या हम अपनी छोटी खोपडी से तौल पायेंगे ? ….नहीं ।

आज  यह विचार सभी भक्तों के मन में उठा है, सो लेखनी चल पडी ….

आप लोगों ने सत्संग में तो यह सुना ही होगा।

कि संत श्री आसारामजी बापू इस बार को लेकर 17 वीं बार धरती पर आ चुके हैं।

श्री योगवशिष्ठ महारामायण में

काकभूषुण्डी जी ने एक कथा सुनाई है।

उसमें भगवान रामजी का 12 बार और भगवान श्री कृष्ण के 16 बार अवतार कथा का वर्णन किया है।

पूर्व की बात को फीर से दोहराता हूँ …, आशाराम बापू जी ने उस सत्संग में कहा हैं की मैं 16 बार पहले भी आ चुका हूँ ये 17वीं बार मेरा आना हुआ है। और यह भी कहा हैं की पुराण आदि में मेरी कथाएँ भी आती हैं।

क्या अब भी पूज्य आसाराम बापूजी की महिमा को पहेचान नहीं पा रहे हो ?

कुछ लोग जानबूझकर whatsapp पर गलत सन्देश फैला रहे है और राजस्थान पत्रिका ने भी झूठी खबर छापी थी, साधकों से अनुरोध है, सच्ची खबर जानके के लिए www.ashram.org पर जाये और पूज्य आसाराम बापूजी का मंगलमय दर्शन और कोर्ट अपडेट के लिए www.aapatkalinmission.org पर जाये |

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s