Special Tithi

मासिक शिवरात्रि (Masik Shivratri)

Image

वर्ष में एक महाशिवरात्रि आती है और हर महीने में एक मासिक शिवरात्रि आती है। यही मासिक शिवरात्रि यदि मंगलवार के दिन पड़े तो उसे भौम प्रदोष व्रत कहते हैं। मंगलदेव ऋणहर्ता देव हैं। उस दिन संध्या के समय यदि भगवान भोलेनाथ का पूजन करें तो भोलेनाथ की, गुरु की कृपा से हम जल्दी ही कर्ज से मुक्त हो सकते हैं। इस दैवी सहायता के साथ थोड़ा स्वयं भी पुरुषार्थ करें। पूजा करते समय यह मंत्र बोलें –

मृत्युंजयमहादेव त्राहिमां शरणागतम्।

जन्ममृत्युजराव्याधिपीड़ितः कर्मबन्धनः।।

मासिक शिवरात्रि को शिवजी के १७ मंत्र –

हर मासिक शिवरात्रि को सूर्यास्‍त के समय अपने घर में बैठकर अपने गुरुदेव का स्मरण करके शिवजी का स्मरण करते करते ये 17 मंत्र बोलें । ‘जो शिव है वो गुरु है, जो गुरु है वो शिव है’ इसलिये गुरुदेव का स्मरण करते है । जिसकी गुरुदेव में दृढ़ भक्ति है वो गुरुदेव का स्मरण करते-करते मंत्र बोले | आस-पास शिवजी का मंदिर तो जिनके सिर पर कर्जा ज्यादा हो वो शिवमंदिर जाकर दिया जलाकर ये १७ मंत्र बोले –

१) ॐ शिवाय नम:

२) ॐ सर्वात्मने नम:

३) ॐ त्रिनेत्राय नम:

४) ॐ हराय नम:

५) ॐ इन्द्र्मुखाय नम:

६) ॐ श्रीकंठाय नम:

७) ॐ सद्योजाताय नम:

८) ॐ वामदेवाय नम:

९) ॐ अघोरह्र्द्याय नम:

१०) ॐ तत्पुरुषाय नम:

११) ॐ ईशानाय नम:

१२) ॐ अनंतधर्माय नम:

१३) ॐ ज्ञानभूताय नम:

१४) ॐ अनंतवैराग्यसिंघाय नम:

१५) ॐ प्रधानाय नम:

१६) ॐ व्योमात्मने नम:

१७) ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम:

उक्‍त मंत्र बोलकर अपने इष्ट को, गुरु को प्रणाम करके यह शिव गायत्री मंत्र बोलें–

ॐ तत्पुरुषाय विद्महे | महादेवाय धीमहि, तन्नो रूद्र प्रचोदयात् ||

जिनके सिर पर कर्जा है वो शिवजी को प्रणाम करते हुये ये १७ मंत्र बोले कि मेरे सिर से ये भार उतर जाये | मैं निर्भार जीवन जी सकूं, भक्ति में आगे बढ़ सकूं| केवल समस्या को याद न करता रहूँ |

– Shri Sureshanandji

Advertisements
Standard

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s