Tithi

अनंग त्रयोदशी

SHIV, parvati, kamdev, rati, prem , sex, love, family life, सुख

अनंग त्रयोदशी

Anang Trayodashi, or Anang Vrat is an observance dedicated to Lord Shiva. It is observed on the 13th day of the Shukla Paksha of Chaitra Month in traditional calendar followed in Maharashtra and Gujarat. In North India, the Anang Trayodashi is observed during on 13th day of Shukla Paksha (waxing phase of moon) in Margashirsh Month.Anang Trayodashi Vrat is observed for a year – on all the 13th day of the Shukla Paksha (waxing phase of the moon) in a month. 8th April 2017. It is believed that observing Anang Vrat will help in attaining prosperity, health, wealth and good fortune.The importance of Anang Trayodashi is mentioned in the Garuda Purana.

Apart from Lord Shiva, Kamadev and Rati are also worshipped on the day. The observance includes offering flowers and fruits to Lord Shiva and the prescribed 16-step Hindu puja and worship.When lord Shiva told Rati about getting back Kamdev in form of Praduman, he also said that person who will observe the fast of Anang Trayodashi in a systematic manner will get a happy married life. Their marital life will have peace, happiness and wealth. Observing this fast gives happiness of child.

Kamdev is also known as Kandarp. Having Darshan of Kandarp Ishwar of Ujaain is considered very virtuous, on this day. The devotees who come here and have a vision of lord Shiva, get place in Dev Lok.

हिन्दू धर्म में कामदेव को प्रेम का देवता माना गया है। यही मनुष्य के हृदय के बस कर काम और प्रेम भावना को बढ़ते हैं। शास्त्रों में कहा गया है कि जो व्यक्ति अपने दांपत्य जीवन में प्रेम और तालमेल बनाए रखना चाहते हैं उन्हें चैत्र शुक्ल त्रयोदशी के दिन (८ अप्रैल २०१७)काम देव और उनकी पत्नी रति के साथ शिव पार्वती की पूजा करनी चाहिए।
शास्त्रों में इस दिन को अनंग त्रयोदशी कहा गया है। इस संदर्भ में एक बड़ी ही रोचक कथा है।
शिवजी के श्राप से जब कामदेव जलकर भस्म हो गये तब कामदेव की पत्नी विलाप करने लगी। इससे भगवान शिव ने कहा कि तुम्हारे पति कामदेव का सिर्फ शरीर खत्म हुआ है वह अब भी बिना अंग के यानी अनंग रहकर तुम्हारे साथ रहेंगे और तुम दोनों मनुष्य के हृदय में प्रवेश करके काम और प्रेम बढ़ाने का काम करोगे जिससे सृष्टि चक्र चलता रहेगा।

इसी समय शिव जी ने कामदेव और रति को आशीर्वाद दिया कि जो व्यक्ति चैत्र शुक्ल त्रयोदशी के दिन कामदेव और रति के साथ शिव और पार्वती की पूजा करेगा उसने दांपत्य जीवन में प्रेम और सदभाव बना रहेगा।

Advertisements
Standard

4 thoughts on “अनंग त्रयोदशी

  1. Reblogged this on Asharam Bapu Ashram and commented:

    अनंग त्रयोदशी के दिन (८ अप्रैल २०१७ ) व्रत करने से दाम्पत्य-प्रेम में वृद्धि होती है तथा पति-पुत्रादि का अखंड सुख प्राप्त होता है |

    Like

  2. Reblogged this on Asharam Bapu Ashram and commented:

    जो व्यक्ति चैत्र शुक्ल त्रयोदशी के दिन कामदेव और रति के साथ शिव और पार्वती की पूजा करेगा उसने दांपत्य जीवन में प्रेम और सदभाव बना रहेगा।

    Like

Your Opinion

Please log in using one of these methods to post your comment:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s