गौ सेवा - गाय की रक्षा - देश की रक्षा

बापू जी के श्री चित्र को १०८ परिक्रमा करती निवाई गौशाला की गौमाता

Awesome, Gau-sewa, Saint and People, Social Activities

गौ सेवा – गाय की रक्षा – देश की रक्षा

Image
Abhyas, Awesome, कथा अमृत, ध्यानामृत, मंत्र - अनुष्ठान, यज्ञ, यौगिक प्रयोग, संस्कार सिंचन, सनातन संस्कृति, ॐ की महिमा, Tithis

भगवान नाम जप के 20 नियम !


भगवान नाम जप के 20 नियम …जप के नियम जो इस प्रकार हैं : –

  1. जहाँ तक सम्भव हो वहाँ तक गुरू द्वारा प्राप्त मंत्र की अथवा किसी भी मंत्र की अथवा परमात्मा के किसी भी एक नाम की 1 से 200 माला जप करो।

  2. रूद्राक्ष अथवा तुलसी की माला का उपयोग करो।

  3. माला फिराने के लिए दाएँ हाथ के अँगूठे और बिचली (मध्यमा) या अनामिका उँगली का ही उपयोग करो।

  4. माला नाभि के नीचे नहीं लटकनी चाहिए। मालायुक्त दायाँ हाथ हृदय के पास अथवा नाक के पास रखो।

  5. माला ढंके रखो, जिससे वह तुम्हें या अन्य के देखने में न आये। गौमुखी अथवा स्वच्छ वस्त्र का उपयोग करो।

  6. एक माला का जप पूरा हो, फिर माला को घुमा दो। सुमेरू के मनके को लांघना नहीं चाहिए।

  7. जहाँ तक सम्भव हो वहाँ तक मानसिक जप करो। यदि मन चंचल हो जाय तो जप जितने जल्दी हो सके, प्रारम्भ कर दो।

  8. प्रातः काल जप के लिए बैठने के पूर्व या तो स्नान कर लो अथवा हाथ पैर मुँह धो डालो। मध्यान्ह अथवा सन्ध्या काल में यह कार्य जरूरी नहीं, परन्तु संभव हो तो हाथ पैर अवश्य धो लेना चाहिए। जब कभी समय मिले जप करते रहो। मुख्यतः प्रातःकाल, मध्यान्ह तथा सन्ध्याकाल और रात्रि में सोने के पहले जप अवश्य करना चाहिए।

  9. जप के साथ या तो अपने आराध्य देव का ध्यान करो अथवा तो प्राणायाम करो। अपने आराध्यदेव का चित्र अथवा प्रतिमा अपने सम्मुख रखो।

  10. जब तुम जप कर रहे हो, उस समय मंत्र के अर्थ पर विचार करते रहो।

  11. मंत्र के प्रत्येक अक्षर का बराबर सच्चे रूप में उच्चारण करो।

  12. मंत्रजप न तो बहुत जल्दी और न तो बहुत धीरे करो। जब तुम्हारा मन चंचल बन जाय तब अपने जप की गति बढ़ा दी।

  13. जप के समय मौन धारण करो और उस समय अपने सांसारिक कार्यों के साथ सम्बन्ध न रखो।

  14. पूर्व अथवा उत्तर दिशा की ओर मुँह रखो। जब तक हो सके तब तक प्रतिदिन एक ही स्थान पर एक ही समय जप के लिए आसनस्थ होकर बैठो। मंदिर, नदी का किनारा अथवा बरगद, पीपल के वृक्ष के नीचे की जगह जप करने के लिए योग्य स्थान है।

  15. भगवान के पास किसी सांसारिक वस्तु की याचना न करो।

  16. जब तुम जप कर रहे हो उस समय ऐसा अनुभव करो कि भगवान की करूणा से तुम्हारा हृदय निर्मल होता जा रहा है और चित्त सुदृढ़ बन रहा है।

  17. अपने गुरूमंत्र को सबके सामने प्रकट न करो।

  18. जप के समय एक ही आसन पर हिले-डुले बिना ही स्थिर बैठने का अभ्यास करो।

  19. जप का नियमित हिसाब रखो। उसकी संख्या को क्रमशः धीरे-धीरे बढ़ाने का प्रयत्न करो।

  20. मानसिक जप को सदा जारी रखने का प्रयत्न करो। जब तुम अपना कार्य कर रहे हो, उस समय भी मन से जप करते रहो।

Standard
Abhyas, Awesome, ईश्वर प्राप्ति, उद्देश्य, कथा अमृत, जीवन, ध्यान की विधियाँ, ध्यानामृत, प्रार्थना, बापू के बच्चे नही रहते कच्चे, भगवान की खोज, यौगिक प्रयोग, विचार विमर्श, विवेक जागृति, संत वाणी, संस्कार सिंचन, सत्संग, सनातन संस्कृति, साधक, Bapuji

गुरूभक्त का लक्ष्य !!


हर गुरूभक्त को पढ़ना चाहिए..

शिष्य का एक ही लक्ष्य होता है, पूर्ण रूप से गुरु मे विलीन हो जाना | अपना संपूर्ण अस्तित्व को समाप्त कर पूर्ण गुरुरूपेण हो जाना | इस सत्य को वही समझ सकते हैं,जिन्होने गुरु भक्ति एवं गुरु तत्व को जीवन मे अपनाया है | शेष वे लोग जो साधना को मात्र चमत्कार दिखाने वाली सिद्धि प्राप्त करने का माध्यम मानते है, यह सत्य उनके समझ नही आएगा |

एक गुरु भक्त को चाहिए कि वे बार-बार गुरु से मिले, चाहे काम हो या ना हो | जिससे कि वे गुरु से दीक्षा ले और सतत साधना करता हुआ अनेक बार दीक्षा ले | दीक्षा/शक्तिपात द्वारा गुरुदेव शिष्य के कर्म काट कर उसके चित्त को स्वच्छ-उज्जवल बनाते है | साधना के पथ पर आगे बढ़ाते हैं |
शिष्य को चाहिए कि वो गुरु मंत्र का रोज जाप करे, नियमित-निरंतर-निर्बाध रूप से गुरु मंत्र का जाप करे | गुरु मंत्र से शिष्य का जीवन तर जाता है | अंतःकरण का परिष्कार होता है, कर्म बंधन शिथिल होते है, चक्रों मे उर्जा आती है, कुण्डलिनी जागरण होता है | गुरु मंत्र का महात्म लिखना इस कागज कलम के बस की बात नही | कई गुरु भाई गुरुमंत्र जप द्वारा साक्षात सद्गुरुदेव के दर्शन करते हैं | किसी ख़ास विधि की जरूरत नही, ज़रूरत है बस श्रद्धा-समर्पण-विश्वास की नियमितता-निरंतरता की |

शिष्य को चाहिए कि वे गुरु-सेवा करे | यदि साक्षात गुरु से मिलना संभव ना हो तो गुरु का कार्य ही गुरु की सच्ची सेवा होती है | शिष्य पूरे तन-मन धन से गुरु का कार्य करे | गुरु कार्य में अपना समय-धन-श्रम-साधन-परिवार को होम कर दे | गुरु के संतोष मात्र से शिष्य के करोड़ो जन्मो के व्रत-अनुष्ठान सफल हो जाते हैं |

शिष्य को बीज बनना चाहिए | एक बीज मे पूर्ण वृक्ष होने की क्षमता होती हैं, परन्तु वह कुछ प्राप्त नही करना चाहता | एक बीज तो सिर्फ़ गलना जानता है, अपने आप को मिट्टी मे मिला देना और समाप्त कर देना ही बीज का उद्देश्य होता है और वो कर भी देता है | फिर ईश्वर खाद-पानी की दिव्य वर्षा कर उस मिट चुके बीज को वृक्ष होने का वरदान देते है | कल का छोटा सा बीज आज पूर्ण वृक्ष बन जाता है, छाँव देता है, फल देता है, और अपने जैसे अनेक नये बीज पैदा कर देता है| शिष्य को भी बीज रूप मे गलना-ढ़लना चाहिए | काम-क्रोध-मद-लोभ-दंभ-दुर्भाव-अहंकार को समाप्त करते हुए अपने अस्तित्व को गुरु चरणों में न्यौछावर कर दें | जैसे ही हमारा समर्पण पूर्ण होता है, गुरुकृपा की अमृत वर्षा होती है और वो शिष्य को पूर्ण वृक्ष मे बदल देती है | शिष्य को पूर्णता का वरदान मिलता है और वो निखिलमय हो जाता है |

शिष्य को चाहिए कि वो नदी की तरह बहना सीखे | एक नदी तब-तक बहती रहती है जब तक वो समुद्र से मिल नही जाती | रास्ते मे आने वाली हर बाधा को पार करती हुई नदी समुद्र मे मिल कर शांत हो जाती है | शिष्य को भी नदी की भांति सदैव साधना पुरुषार्थ मे लगे रहना चाहिए जब तक वह परमात्मा मे पूर्ण रूप से समाहित नही हो जाता | रास्ते में आने वाली हर बाधा घर-परिवार-रिश्तेदार-आंतरिक दुर्बलता-बाहरी विपत्ति को पार करता हुआ वीर भाव से सतत साधनात्मक पुरुषार्थ करता हुआ जीवन भर चलता रहे | ना रुके ना थके तो वो भी एक ना एक दिन समुद्र मे अवश्य समाहित हो जाएगा |

एक शिष्य को सदैव इन 5 बातों का ध्यान रखना चाहिए :
1) अहंकार की समाप्ति
2) आसक्ति की समाप्ति
3) मोह की समाप्ति
4) अपस्मा-चोरी करने की प्रवृति की समाप्ति
5) गुरु भक्ति मे कभी किसी परिस्थिति में भी न्यूनता ना आने देना…

रोज रात मे सोने से पहले अपना आत्मनिरीक्षण कर देखना चाहिए कि आज मैने अहंकार, आसक्ति, मोह, अपस्मा, भक्ति मे कुछ गड़बड़ तो नही करी | ग़लतियों के लिए गुरुदेव से क्षमा माँगते हुए फिर ना करने का संकल्प लेना चाहियें | इस प्रकार साधक-शिष्य-गुरुमय होता हुआ अपने लक्ष को अवश्य ही पा लेता है |

Standard
Abhyas, Awesome, ईश्वर प्राप्ति, उद्देश्य, ध्यान की विधियाँ, ध्यानामृत, बापू के बच्चे नही रहते कच्चे, यौगिक प्रयोग, संत वाणी, संस्कार सिंचन, सत्संग, सनातन संस्कृति, ॐ की महिमा, Bapuji

ॐ की महिमा !


ॐ , ओउम् तीन अक्षरों से बना है।

“अ उ म्” ।

“अ” का अर्थ है उत्पन्न होना,

“उ” का तात्पर्य है उठना, उड़ना अर्थात् विकास,

“म” का मतलब है मौन हो जाना अर्थात् “ब्रह्मलीन” हो जाना।

ॐ सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड की उत्पत्ति और पूरी सृष्टि का द्योतक है।

ॐ का उच्चारण शारीरिक लाभ प्रदान करता है।

जानिए “ॐ”  कैसे है स्वास्थ्यवर्द्धक और अपनाएं आरोग्य के लिए ॐ के उच्चारण का मार्ग…

  1. ॐ और थायराॅयडः-
    ॐ का उच्‍चारण करने से गले में कंपन पैदा होती है जो थायरायड ग्रंथि पर सकारात्मक प्रभाव डालता है।

  2. ॐ और घबराहटः-
    अगर आपको घबराहट या अधीरता होती है तो ॐ के उच्चारण से उत्तम कुछ भी नहीं।

  3. ॐ और तनावः-
    यह शरीर के विषैले तत्त्वों को दूर करता है, अर्थात तनाव के कारण पैदा होने वाले द्रव्यों पर नियंत्रण करता है।

  4. ॐ और खून का प्रवाहः-
    यह हृदय और ख़ून के प्रवाह को संतुलित रखता है।

  5. ॐ और पाचनः-
    ॐ के उच्चारण से पाचन शक्ति तेज़ होती है।

  6. ॐ लाए स्फूर्तिः-
    इससे शरीर में फिर से युवावस्था वाली स्फूर्ति का संचार होता है।

  7. ॐ और थकान:-
    थकान से बचाने के लिए इससे उत्तम उपाय कुछ और नहीं।

  8. ॐ और नींदः-
    नींद न आने की समस्या इससे कुछ ही समय में दूर हो जाती है। रात को सोते समय नींद आने तक मन में इसको करने से निश्चिंत नींद आएगी।

  9. ॐ और फेफड़े:-
    कुछ विशेष प्राणायाम के साथ इसे करने से फेफड़ों में मज़बूती आती है।

  10. ॐ और रीढ़ की हड्डी:-
    ॐ के पहले शब्‍द का उच्‍चारण करने से कंपन पैदा होती है। इन कंपन से रीढ़ की हड्डी प्रभावित होती है और इसकी क्षमता बढ़ जाती है।

  11. ॐ दूर करे तनावः-
    ॐ का उच्चारण करने से पूरा शरीर तनाव-रहित हो जाता है।

आशा है आप अब कुछ समय जरुर ॐ का उच्चारण  करेंगे। साथ ही साथ इसे उन लोगों तक भी जरूर पहुंचायेगे जिनकी आपको फिक्र है |
“पहला सुख निरोगी काया” !!

Standard
Abhyas, Awesome, ईश्वर प्राप्ति, उद्देश्य, कथा अमृत, जीवन, ध्यानामृत, प्रश्नोत्तरी, प्रार्थना, बाल संस्कार केंद्र, भगवान की खोज, यौगिक प्रयोग, विवेक जागृति, संत वाणी, संस्कार सिंचन, सनातन संस्कृति, Bapuji

भगवान की खोज !


अकबर ने बीरबल के सामने अचानक एक दिन 3 प्रश्न उछाल दिये।
प्रश्न यह थे –
1) “भगवान कहाँ रहता है?
2) वह कैसे मिलता है ? और
3) वह करता क्या है?”

बीरबल इन प्रश्नों को सुनकर सकपका गये और बोले – ”जहाँपनाह ! इन प्रश्नों  के उत्तर मैं कल आपको दूँगा।”

जब बीरबल घर पहुँचे तो वह बहुत उदास थे। उनके पुत्र ने जब उनसे पूछा तो उन्होंने बताया –

”बेटा! आज बादशाह ने मुझसे एक साथ तीन प्रश्न पूंछे हैं :
✅ ‘भगवान कहाँ रहता है?
✅ वह कैसे मिलता है?
✅ और वह करता क्या है?’

मुझे उनके उत्तर सूझ नही रहे हैं और कल दरबार में इनका उत्तर देना है।”

बीरबल के पुत्र ने कहा – ”पिता जी ! कल आप मुझे दरबार में अपने साथ ले चलना मैं बादशाह के प्रश्नों के उत्तर दूँगा।” पुत्र की हठ के कारण बीरबल अगले दिन अपने पुत्र को साथ लेकर दरबार में पहुँचे। बीरबल को देख कर बादशाह अकबर ने कहा – ”बीरबल मेरे प्रश्नों के उत्तर दो। बीरबल ने कहा – ”जहाँपनाह आपके प्रश्नों के उत्तर तो मेरा पुत्र भी दे सकता है।”

अकबर ने बीरबल के पुत्र से पहला प्रश्न पूछा – “बताओ ! ‘भगवान कहाँ रहता है?”

बीरबल के पुत्र ने एक गिलास शक्कर मिला हुआ दूध बादशाह से मँगवाया और कहा – जहाँपनाह दूध कैसा है ?

अकबर ने दूध चखा और कहा कि ये मीठा है। परन्तु बादशाह सलामत क्या आपको इसमें शक्कर दिखाई दे रही है ?

बादशाह बोले नही। वह तो घुल गयी।

जी हाँ, जहाँपनाह ! भगवान भी इसी प्रकार संसार की हर वस्तु में रहता है। जैसे शक्कर दूध में घुल गयी है और वह दिखाई नही दे रही है।

बादशाह ने सन्तुष्ट होकर अब दूसरे प्रश्न का उत्तर पूछा – ”बताओ ! भगवान मिलता केैसे है ?” बालक ने कहा – ”जहाँपनाह थोड़ा दही मँगवाइए।”

” बादशाह ने दही मँगवाया तो बीरबल के पुत्र ने कहा – ”जहाँपनाह ! क्या आपको इसमें मक्खन दिखाई दे रहा है ?

बादशाह ने कहा – ”मक्खन तो दही में है पर इसको मथने पर ही दिखाई देगा।”

बालक ने कहा – ”जहाँपनाह ! मन्थन करने पर ही भगवान के दर्शन हो सकते हैं।”

बादशाह ने सन्तुष्ट होकर अब अन्तिम प्रश्न का उत्तर पूछा – ”बताओ ! भगवान करता क्या है?”

बीरबल के पुत्र ने कहा – ”महाराज ! इसके लिए आपको मुझे अपना गुरू स्वीकार करना पड़ेगा।”

अकबर बोले – ”ठीक है, आप गुरू और मैं आप का शिष्य।”

अब बालक ने कहा – ”जहाँपनाह गुरू तो ऊँचे आसन पर बैठता है और शिष्य नीचे।

अकबर ने बालक के लिए सिंहासन खाली कर दिया और स्वयं नीचे बैठ गये।

अब बालक ने सिंहासन पर बैठ कर कहा – ”महाराज ! आपके अन्तिम प्रश्न का उत्तर तो यही है।”

अकबर बोले- ”क्या मतलब ? मैं कुछ समझा नहीं।”

बालक ने कहा – ”जहाँपनाह ! भगवान यही तो करता है। “पल भर में राजा को रंक बना देता है और भिखारी को सम्राट बना देता है।”

Standard
Abhyas, Awesome, कथा अमृत, जीवन, ध्यानामृत, प्रार्थना, मधुसंचय, यज्ञ, यौगिक प्रयोग, विवेक जागृति, वैशाख मॉस महात्म्य, संत वाणी, सत्संग, सनातन संस्कृति, Special Occasion

वैशाख मास की महापुण्यप्रद अंतिम तीन तिथियाँ (1 से 4 मई 2015)


श्रुतदेवजी राजा जनक से कहते हैं : ‘‘राजेन्द्र ! वैशाख मास के शुक्ल पक्ष में जो अंतिम तीन पुण्यमयी तिथियाँ हैं – त्रयोदशी, चतुर्दशी और पूर्णिमा । ये बडी पवित्र व शुभकारक हैं । इनका नाम ‘पुष्करिणी है, ये सब पापों का क्षय करनेवाली हैं । पूर्वकाल में वैशाख शुक्ल एकादशी को शुभ अमृत प्रकट हुआ । द्वादशी को भगवान विष्णु ने उसकी रक्षा की । त्रयोदशी को उन श्रीहरि ने देवताओं को सुधा-पान कराया । चतुर्दशी को देवविरोधी दैत्यों का संहार किया और पूर्णिमा के दिन समस्त देवताओं को उनका साम्राज्य प्राप्त हो गया । इसलिए देवताओं ने संतुष्ट होकर इन तीन तिथियों को वर दिया : ‘वैशाख की ये तीन शुभ तिथियाँ मनुष्यों के पापों का नाश करनेवाली तथा उन्हें पुत्र-पौत्रादि फल देनेवाली हों ।

जो सम्पूर्ण वैशाख में प्रातः पुण्यस्नान न कर सका हो, वह इन तिथियों में उसे कर लेने पर पूर्ण फल को ही पाता है । वैशाख में लौकिक कामनाओं को नियंत्रित करने पर मनुष्य निश्चय ही भगवान विष्णु का सायुज्य प्राप्त कर लेता है ।

जो वैशाख में अंतिम तीन दिन ‘भगवद्गीता का पाठ करता है, उसे प्रतिदिन अश्वमेध यज्ञ का फल मिलता है और जो ‘श्री विष्णुसहस्रनाम का पाठ करता है, उसके पुण्यफल का वर्णन करने में भूलोक व स्वर्गलोक में कौन समर्थ है । जो वैशाख के अंतिम तीन दिनों में ‘भागवत शास्त्र का श्रवण करता है, वह जल से कमल के पत्ते की भाँति कभी पापों से लिप्त नहीं होता । उक्त तीनों दिनों के सम्यक् सेवन से कितने ही मनुष्यों ने देवत्व प्राप्त कर लिया, कितने ही सिद्ध हो गये और कितनों ने ब्रह्मत्व पा लिया । इसलिए वैशाख के अंतिम तीन दिनों में पुण्यस्नान, दान और भगवत्पूजन आदि अवश्य करना चाहिए ।

Standard
asaram bapu
#Bail4Bapuji, #Justice4Bapuji, #WhySoBiased, Ashram News, Awesome, अवतरण दिवस, ऋषि दर्शन, जन्मोत्सव, दर्शन ध्यान, दैवीय चमत्कार, प्रार्थना, बापू के बच्चे नही रहते कच्चे, बाल संस्कार केंद्र, मंदिर, राष्ट्र जागृति यात्रा, विचार विमर्श, विवेक जागृति, संत वाणी, संस्कार सिंचन, सनातन संस्कृति, हमारे आदर्श, Bapuji, Daily Activitie and Enlightning Pujya bapuji Satsang., Daily Activities and bapuji divine satsang, Dharm Raksha Manch, False Allegations, Guru-Bhakti, GURUDARSHAN, Heavenly Satsang, Hindu, Indian Culture, Innocent Saint, Mangalmay Channel

आशाराम बापू को शत्-शत् अभिनन्दन |


यूँ तो धरा पर जन्म एक आम इंसान भी लेता है और वहीं एक जीव भी लेता है | पर उसके कर्म ही उसको दिव्य बनाते हैं | पूज्य गुरुदेव ने भी सत्संग में कई बार इसका वर्णन किया है “जन्म कर्म च में दिव्यं” अर्थात् उसके जन्म और कर्म दोनों ही दिव्य माने जाते हैं जो जीते जी परमात्मा के रास्ते चल पड़ता है और आत्मज्ञानी संतों की खोज करके अपने को ब्रह्म मस्ती में सराबोर कर परम पद को प्राप्त कर लेता है |

आज हम साधक भी धन्य हुए ऐसे गुरुदेव को पाकर जिन्होंने अपने जीवन काल में सदैव आत्म मस्ती  में रमण किया और जन जन तक इसका सन्देश पंहुचाया | स्वयं तो समाज सेवा और परहित के उत्थान में लगे ही रहे और सभी को इसका लाभ समझाया | बचपन से ही दैविक चमत्कारों से अनजान दुनियावालों को आकर्षित करने वाले पूज्य संत आज भी जन – जन के लोक लाडले और हिन्दू धर्म के हितैषी बनकर सबके दिलों पर राज कर रहे हैं | और उनके ही वचनों और संस्कारों का अनुसरण करते हुए उनके साधक भी समाज सेवा के कार्यों में नित्य प्रति उत्साह और जोश के साथ लगे रहते हैं |

यूँ तो बापूजी कहते हैं कि जन्म तो शरीर का होता है, आत्मा तो अजर-अमर-अविनाशी है पर भला उनके साधक कहाँ ये बात मानने वाले हैं | वो तो अपने गुरुदेव का जन्म दिवस मनाने हेतु कदम से कदम और ताल से ताल मिलाकर समाज सेवा के कार्यों में जोर-शोर से लगे हुए हैं और सदैव लगे रहते हैं |

ब्रह्मज्ञानी महापुरुषों की परम्पराओं पर दृष्टि डाली जाये तो वो आज के युग में भी जीवित है | आइये देखते हैं कैसे :

1) श्री राघवानंद जी महाराज

2) स्वामी रामानंद जी स्वामी

3) संत कबीर दास जी महाराज

4) संत कमाल साहिब

5) श्री दादू दीनदयाल जी महाराज

6) स्वामी निश्चलदास जी महाराज

7) स्वामी केशवानंद जी महाराज

8) स्वामी लीलाशाह जी महाराज

9) संत श्री आशारामजी बापू

गुरु स्वामी रामानंद जी महाराज की परम्परा अपने शिष्य संत कबीरदास जी पंथ से लेकर पूज्य संत श्री आशारामजी बापू जैसे महापुरुषों तक की ये संत परम्परा आज भी सजीव है । हमें विश्ववासियों को, भारत के सपूतों को इस सच्चाई से अवगत कराना होगा कि पूज्य संत श्री आशारामजी बापू कोई सामान्य संत नहीं हैं । ब्रह्मज्ञानी महापुरुषों की संत परम्परा हम आज भी प्रत्यक्ष देख सकते हैं |

हर युग में संतों पर श्रद्धा रखने वाले श्रधालु लाभ लेते आयें हैं वहीँ दूसरी ओर कुतर्की लोग संतों पर जुल्म भी करते आये हैं । लेकिन श्रद्धालुओं की आस्था कभी डिगाये नहीं डिगती क्योंकि श्रद्धा रखने वाले श्रद्धालुओं ने अपने जीवन में आदिभौतिक, आदिदैविक और आध्यात्मिक लाभ एवं चमत्कार प्रत्यक्ष अनुभव किये हुए होते हैं इसलिए वे सत्पथ से कभी विचलित नहीं होते और अपने सत् धर्म का प्रचार-प्रसार करते चले जाते हैं ।

इसी तरह आज संत श्री आशारामजी बापू अपने 75 वर्षीय उम्र में भी लगातार 50 वर्षों से समाज हित के दैवी कार्य करते ही चले जा रहें हैं और आज कुतर्की और षड्यंत्रकारियों के कारण ऐसे महान संत को जेल में डाला गया । लेकिन उनके शिष्यों द्वारा समाज-उत्थान के कार्य आज भी प्रत्यक्ष हम विश्वभर में देख सकते हैं ।

जेल में होने के बावजूद ऐसे महान संत के दैवी कार्य बंद नहीं हुए हैं । आज भी कई जगह जप यज्ञ, भंडारे, जल सेवा, छाछ वितरण, कम्बल वितरण, हॉट केस आदि जीवनोपयोगी सामग्री जरूरतमंदों में वितरित की जाती है । साथ ही साथ बाल संस्कार, युवा सेवा संघ, महिला उत्थान कार्यक्रम, आश्रमों में पूजा-पाठ, भंडारा, योगासन आदि कई कार्यक्रम नित्यप्रति किये जा रहे हैं ।

कल आने वाले 10 अप्रैल 2015 को पूज्य संत श्री आशाराम जी बापू के जन्मोत्सव को हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी “विश्व-सेवा दिवस” के रूप में मनाया जा रहा है  और जोधपुर में विशाल स्वच्छता अभियान भी पुरजोर तरीके से किया जा रहा है |

धन्य हैं ऐसे गुरुदेव और उनके ऐसे गुरुभक्त और उनकी सच्ची श्रद्धा और आस्था !! भारत के महान संतों-महापुरुषों को मेरा शत्-शत् नमन् !

 

 

Standard